गठरी...

३१ जुलाई (1) अभिव्यक्ति की आज़ादी (2) अरुंधती रॉय (1) अरुण कुमार असफल (1) आदिवासी (2) आदिवासी महिला केंद्रित (1) आदिवासी संघर्ष (1) आधुनिक कविता (3) आलोचना (1) इंदौर (1) इंदौर प्रलेसं (7) इप्टा (2) इप्टा - इंदौर (1) उपन्यास साहित्य (1) कविता (40) कश्मीर (1) कहानी (7) कामरेड पानसरे (1) कालचिती (1) किताब (1) किसान (1) कॉम. विनीत तिवारी (4) क्यूबा (1) क्रांति (2) गज़ल (5) गुंजेश (1) गुंजेश कुमार मिश्रा (1) गौहर रज़ा (1) घाटशिला (2) जमशेदपुर (1) जल-जंगल-जमीन की लड़ाई (1) ज्योति मल्लिक (1) डॉ. कमला प्रसाद (3) तहरीर चौक (1) ताजी कहानी (4) दलित (2) धूमिल (1) नज़्म (8) नागार्जुन (1) नागार्जुन शताब्दी वर्ष (1) नारी (3) निर्मला पुतुल (1) नूर जहीर (1) परिकथा (1) पहल (1) पहला कविता समय सम्मान (1) पूंजीवाद (1) पेरिस कम्यून (1) प्रकृति (3) प्रगतिशील मूल्य (2) प्रगतिशील लेखक संघ (4) प्रगतिशील साहित्य (3) प्रलेस (1) प्रलेस घाटशिला इकाई (1) प्रलेसं (12) प्रलेसं-घाटशिला (2) प्रेम (17) प्रेमचंद (1) प्रेमचन्द जयंती (1) प्रोफ. चमनलाल (1) फिदेल कास्त्रो (1) फैज़ अहमद फैज़ (2) बंगला (1) बंगाली साहित्यकार (1) बेटी (1) बोल्शेविक क्रांति (1) भगत सिंह (1) भारत (1) भारतीय नारी संघर्ष (1) भाषा (3) भीष्म साहनी (2) मई दिवस (1) महादेव खेतान (1) महिला दिवस (1) महेश कटारे (1) मार्क्सवाद (1) मिथिलेश प्रियदर्शी (1) मिस्र (1) मुक्तिबोध (1) मुक्तिबोध जन्मशती (1) युवा (17) युवा और राजनीति (1) रचना (6) रूसी क्रांति (1) रोहित वेमुला (1) लघु कथा (1) लेख (3) लैटिन अमेरिका (1) वर्षा (1) वसंत (1) वामपंथी आंदोलन (1) वामपंथी विचारधारा (1) विद्रोह (16) विनीत तिवारी (1) विभूति भूषण बंदोपाध्याय (1) व्यंग्य (1) शमशेर बहादुर सिंह (3) शेखर (11) शेखर मल्लिक (3) समकालीन तीसरी दुनिया (1) समयांतर पत्रिका (1) समसामयिक (8) समाजवाद (2) सांप्रदायिकता (1) साम्प्रदायिकता (1) सावन (1) साहित्य (6) साहित्यिक वृतचित्र (1) स्त्री (18) स्त्री विमर्श (1) हरिशंकर परसाई (2) हिंदी (42) हिंदी कविता (41) हिंदी साहित्य (78) हिंदी साहित्य में स्त्री-पुरुष (3) ह्यूगो (1)

सोमवार, 21 जून 2010

विपरीत यात्रा

मृत्यु से जन्म के बीच
एक उलटी यात्रा करना चाहता हूँ
वापस उन्हीं पद्चापों को अनुसरित करता
फिरता हुआ...
घड़ी को चकमा देकर,
समय के गर्भ में जाना चाहता हूँ,

होना चाहता हूँ
फिर प्रौढ़, युवा, बाल...
चाहता हूँ लेट जाना...
मुझे माँ की उष्म गोद में निश्चिन्त और निसंताप...
समर्पित होकर खो जाना...
प्रेयसी की कोमल कसती बाँहों के घेरे में चुपचाप
होना एकाकार ...
पत्नी की छाती में निर्विकार

बचपन की गलियों में बेफ़िक्र घूमना चाहता हूँ
कंचे या क्रिकेट खेलते,
मीना बाजारकी रौनक में झूला झूलते...
मस्ती में जीना चाहता हूँ...
उस मौज को

चला जाना चाहता हूँ... समय के सारे पहरे तोड़ कर अनायास ही
पीछे, पीछे, तारीखों में बहुत पीछे...
और भाग कर फिर से माँ से लिपट जाना चाहता हूँ...
अपने सारे संताप, सभी निराशाएँ, सब विफलताएं...
मिटा देना चाहता हूँ...

चूक जाने से पहले पूरी उत्तेजना में भरकर
एक बार अपने पुरे वजूद के साथ
पत्नी को चूमना चाहता हूँ
और कहना चाहता हूँ अस्फुट आवाज़ में
कि, तुमने मेरी जिंदगी को सिंदूर की तरह निभाया...

भूगोल की दूरियों से
या समय की सुईयों से
नहीं नापी जा सकती
मेरी विपरीत यात्रा,
माँ तक...
प्रेयसी तक...
पत्नी तक...
ये मेरी देहातीत से फिर देह होने की यात्रा
क्योंकि मैं,

माँ के वक्ष से पहला आहार पाने से लेकर
पत्नी से सहवास की जैविक परम संतुष्टि तक...
मेरी जिंदगी के कुछ बेहद, बेहद निजी अर्थों को फिर से
उन्माद में लबरेज हो,
समझना चाहता हूँ...
दार्शनिक हुए बिना भोग लेना चाहता हूँ...
फिर कोई नया जन्म लेने से पहले !

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...