गठरी...

३१ जुलाई (1) अभिव्यक्ति की आज़ादी (2) अरुंधती रॉय (1) अरुण कुमार असफल (1) आदिवासी (1) आदिवासी संघर्ष (1) आधुनिक कविता (3) आलोचना (1) इंदौर (1) इंदौर प्रलेसं (7) इप्टा (2) इप्टा - इंदौर (1) कविता (40) कश्मीर (1) कहानी (7) कामरेड पानसरे (1) किताब (1) किसान (1) कॉम. विनीत तिवारी (4) क्यूबा (1) क्रांति (2) गज़ल (5) गुंजेश (1) गुंजेश कुमार मिश्रा (1) गौहर रज़ा (1) घाटशिला (2) जमशेदपुर (1) जल-जंगल-जमीन की लड़ाई (1) ज्योति मल्लिक (1) डॉ. कमला प्रसाद (3) तहरीर चौक (1) ताजी कहानी (4) दलित (2) धूमिल (1) नज़्म (8) नागार्जुन (1) नागार्जुन शताब्दी वर्ष (1) नारी (3) निर्मला पुतुल (1) नूर जहीर (1) परिकथा (1) पहल (1) पहला कविता समय सम्मान (1) पूंजीवाद (1) पेरिस कम्यून (1) प्रकृति (3) प्रगतिशील मूल्य (2) प्रगतिशील लेखक संघ (4) प्रगतिशील साहित्य (3) प्रलेस (1) प्रलेस घाटशिला इकाई (1) प्रलेसं (12) प्रलेसं-घाटशिला (2) प्रेम (17) प्रेमचंद (1) प्रेमचन्द जयंती (1) प्रोफ. चमनलाल (1) फिदेल कास्त्रो (1) फैज़ अहमद फैज़ (2) बंगला (1) बंगाली साहित्यकार (1) बेटी (1) बोल्शेविक क्रांति (1) भगत सिंह (1) भारत (1) भारतीय नारी संघर्ष (1) भाषा (3) भीष्म साहनी (2) मई दिवस (1) महादेव खेतान (1) महिला दिवस (1) महेश कटारे (1) मार्क्सवाद (1) मिथिलेश प्रियदर्शी (1) मिस्र (1) मुक्तिबोध (1) मुक्तिबोध जन्मशती (1) युवा (17) युवा और राजनीति (1) रचना (6) रूसी क्रांति (1) रोहित वेमुला (1) लघु कथा (1) लेख (3) लैटिन अमेरिका (1) वर्षा (1) वसंत (1) वामपंथी आंदोलन (1) वामपंथी विचारधारा (1) विद्रोह (16) विनीत तिवारी (1) विभूति भूषण बंदोपाध्याय (1) व्यंग्य (1) शमशेर बहादुर सिंह (3) शेखर (11) शेखर मल्लिक (2) समकालीन तीसरी दुनिया (1) समयांतर पत्रिका (1) समसामयिक (8) समाजवाद (2) सांप्रदायिकता (1) साम्प्रदायिकता (1) सावन (1) साहित्य (6) साहित्यिक वृतचित्र (1) स्त्री (18) स्त्री विमर्श (1) हरिशंकर परसाई (2) हिंदी (42) हिंदी कविता (41) हिंदी साहित्य (78) हिंदी साहित्य में स्त्री-पुरुष (3) ह्यूगो (1)

बुधवार, 25 मई 2011

साहित्य का गैर राजनीतिक होना हमारे लिए चुनौती है: लक्ष्मीनारायण

इंदौर. ११ मई २०११
प्रगतिशील लेखक संघ की आन्ध्राप्रदेश इकाई के अध्यक्ष कामरेड लक्ष्मीनारायण ने प्रगतिशील लेखक संघ की इंदौर इकाई के साथियों को संबोधित करते हुए कहा कि साहित्य का गैर राजनीतिक होना हमारे लिए चुनौती है. उन्होंने कहा कि ऐसे दौर में जब लोग जनवाद और प्रगतिशीलता को पुरानी और ख़त्म हो चुकी चीज़ मानने लगे हैं और इसका प्रचार किया जा रहा है तो अपनी तरह से सोचने वाले साथियों के बीच आकर खुशी महसूस होती है. इंडियन कॉफ़ी हाउस में साथियों के साथ अनोपचारिक बातचीत करते हुए उन्होंने तेलगु साहित्य की प्रगतिशील धारा के बारे में जानकारी दी. १९१० में प्रगतिशील तेलगु साहित्य ने आकार लेना शुरू किया और १९३६ में जब लखनऊ में प्रगतिशील लेखक संघ का पहला सम्मलेन हुआ तो उसमें तेलगु साहित्य के तीन प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया. इस तरह प्रगतिशील तेलूगु ने आकार लेना शुरू किया. १९३० का दशक तेलगु साहित्य के लिए काफी महत्वपूर्ण था. इसी दौरान आज़ादी की लड़ाई के साथ ही कम्युनिस्ट आन्दोलन की भी शुरआत हुई थी.
श्री लक्ष्मीनारायण ने कहां कि वह समय राजनीतिक लेखन का था. प्रगतिशील लेखक संघ का सदस्य होना उस दौर में फेशन होता था. आप तब तक लेखक नहीं माने जाते थे जब तक आप प्रगतिशील लेखक संघ के सदस्य नहीं होते. उसी दौरान तेलुगु साहित्य में मजदूर व शोषित के हक़ में आवाज बुलंद की गयी. उससे पहले तक तेलुगु साहित्य की भाषा भी संस्कृत की तरह थी जो बाद में आम लोगों की भाषा बनी.
उन्होंने ऐसे तेलुगु साहित्यकारों के बारे में भी बताया जो अधिक प्रसिद्ध नहीं हैं लेकिन तेलुगु साहित्य में जिन्होंने अपनी उपस्थिति दर्शायी. इनमें प्रमुख हैं शारदा व् श्री श्री.
आज़ादी के बाद हुक्मरानों को इस प्रभावशाली मुहिम से खतरा महसूस होने लगा. उनहोंने दमनकारी नीति अपनानी शुरू कर दी. तेलंगाना मुहिम को कुचलने के साथ-साथ प्रगतिशील लेखक संघ पर प्रतिबन्ध लगा दिया. कई लेखक चेन्नई भाग गए. इसके बावजूद प्रगतिशील लेखक संघ का प्रभाव कम नहीं हुआ. प्रगतिशील लेखक संघ की तेलुगु इकाई ने विश्व साहित्य और हिन्दी व बांग्ला के उत्कृष्ट साहित्य का भी अनुवाद तेलुगु में किया. इसमें विशाल आंध्रा पब्लिकेशन का काफी सहयोग रहा है.
गुंटूर जिले के निवासी कामरेड लक्ष्मीनारायण खुद भी अच्छे लेखक हैं व जिला बार एसोसिशन के अध्यक्ष भी रह चुके हैं.
कार्यक्रम में वरिष्ठ कवि कृष्णकांत निलोसे, इप्टा इंदौर इकाई के सचिव अशोक दुबे, वरिष्ट लेखक श्री एस के दुबे, सारिका श्रीवास्तव, युवा कवि रोशन नायर, अभय नेमा, विनोद बन्डावाला, मनीष पाण्डेय, सत्येन्द्र रघुवंशी आदि उपस्थित थे. प्रगतिशील लेखक संघ के राज्य महासचिव विनीत तिवारी ने श्री लक्ष्मीनारायण का परिचय दिया और बताया कि श्री लक्ष्मीनारायण भोपाल में राष्ट्रीय महासचिव श्री कमलाप्रसाद के निधन के उपरान्त उनके परिजनों से भेंट कर अपनी और आँध्रप्रदेश के अन्य साथियो की और से शोक संवेदनाएं देने भी गए थे और लौटते हुए इंदौर में उनहोंने साथियों से मिलने की इच्छा प्रकट की तो तत्काल ही हम लोग इकट्ठे हो गए. श्री लक्ष्मीनारायण ने तेलुगु साहित्य की प्रगतिशील धारा के बारे में विस्तार से परिचय कराया और श्री श्री व शारदा जैसे महान कवियों की कवितायें भी सुनाईं.

विनोद बन्डावाला
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...