गठरी...

३१ जुलाई (1) अभिव्यक्ति की आज़ादी (2) अरुंधती रॉय (1) अरुण कुमार असफल (1) आदिवासी (1) आदिवासी संघर्ष (1) आधुनिक कविता (3) आलोचना (1) इंदौर (1) इंदौर प्रलेसं (7) इप्टा (2) इप्टा - इंदौर (1) कविता (40) कश्मीर (1) कहानी (7) कामरेड पानसरे (1) किताब (1) किसान (1) कॉम. विनीत तिवारी (4) क्यूबा (1) क्रांति (2) गज़ल (5) गुंजेश (1) गुंजेश कुमार मिश्रा (1) गौहर रज़ा (1) घाटशिला (2) जमशेदपुर (1) जल-जंगल-जमीन की लड़ाई (1) ज्योति मल्लिक (1) डॉ. कमला प्रसाद (3) तहरीर चौक (1) ताजी कहानी (4) दलित (2) धूमिल (1) नज़्म (8) नागार्जुन (1) नागार्जुन शताब्दी वर्ष (1) नारी (3) निर्मला पुतुल (1) नूर जहीर (1) परिकथा (1) पहल (1) पहला कविता समय सम्मान (1) पूंजीवाद (1) पेरिस कम्यून (1) प्रकृति (3) प्रगतिशील मूल्य (2) प्रगतिशील लेखक संघ (4) प्रगतिशील साहित्य (3) प्रलेस (1) प्रलेस घाटशिला इकाई (1) प्रलेसं (12) प्रलेसं-घाटशिला (2) प्रेम (17) प्रेमचंद (1) प्रेमचन्द जयंती (1) प्रोफ. चमनलाल (1) फिदेल कास्त्रो (1) फैज़ अहमद फैज़ (2) बंगला (1) बंगाली साहित्यकार (1) बेटी (1) बोल्शेविक क्रांति (1) भगत सिंह (1) भारत (1) भारतीय नारी संघर्ष (1) भाषा (3) भीष्म साहनी (2) मई दिवस (1) महादेव खेतान (1) महिला दिवस (1) महेश कटारे (1) मार्क्सवाद (1) मिथिलेश प्रियदर्शी (1) मिस्र (1) मुक्तिबोध (1) मुक्तिबोध जन्मशती (1) युवा (17) युवा और राजनीति (1) रचना (6) रूसी क्रांति (1) रोहित वेमुला (1) लघु कथा (1) लेख (3) लैटिन अमेरिका (1) वर्षा (1) वसंत (1) वामपंथी आंदोलन (1) वामपंथी विचारधारा (1) विद्रोह (16) विनीत तिवारी (1) विभूति भूषण बंदोपाध्याय (1) व्यंग्य (1) शमशेर बहादुर सिंह (3) शेखर (11) शेखर मल्लिक (2) समकालीन तीसरी दुनिया (1) समयांतर पत्रिका (1) समसामयिक (8) समाजवाद (2) सांप्रदायिकता (1) साम्प्रदायिकता (1) सावन (1) साहित्य (6) साहित्यिक वृतचित्र (1) स्त्री (18) स्त्री विमर्श (1) हरिशंकर परसाई (2) हिंदी (42) हिंदी कविता (41) हिंदी साहित्य (78) हिंदी साहित्य में स्त्री-पुरुष (3) ह्यूगो (1)

रविवार, 1 अप्रैल 2012

भूख पर एक संवाद


भूख से हुई मौत को "राष्ट्रीय शर्म"
घोषित करने के मुद्दे पर,
जो विगत शाम के राष्ट्रीय प्रसारण पर आया था,
एक बार हम में बतकही हुई...

मुख्य अंश इस प्रकार हैं -

उसने मुझे कहा था -
भूख अपने असल रूप में
कुत्ते की आंत में
जैसी होती है,
वैसे अगर इंसान
को हो जाय तो क्या होगा,
जानते हो?...

मैंने कई तरह की कल्पनाएं कीं
और जवाब में,
कहा –
दुनिया अनायास
आग के गोले में
बदल जाऐगी...

उसने कहा
तुम ठीक सोच रहे हो,
यह तुम्हारी सोच की
सबसे अंतिम चढ़ाई भी है
मगर सिर्फ या सबसे पहले ऐसा ही होता
तो भूख... बन्दूक, छुरा, नफरत,
बाज़ार और इश्तिहार नहीं
बनता और
उनकी औरतों को
पूरा का पूरा...
सिर्फ जिस्म बनाकर नहीं छोड़ता !

दरअसल भूख को
हमारी लड़ने की, विरोध करने की
प्रवृति और सबसे बड़ी
इच्छा शक्ति होना चाहिए था....

मैंने सहमति में सर हिलाया

उसने कहा-
भूख से हुई मौत
सरकार के लिए शर्म
पैदा करती है
और सरकारें सदन के
भीतर ही इस शर्म का
निपटारा कर लेती हैं !
दरअसल शर्म की जगह
अफ़सोस जैसी संवेदना
और प्रतिबद्धता जैसी उत्तेजना
वहाँ होनी चहिए ! लेकिन.....

मैंने सहसा कह दिया
इतिहास गवाह है
कि भूख हमेशा
आदमी पैदा करता है

उसने कहा - नहीं,
भूख इंसानियत को खा जाता है

मगर मेरा तर्क था,
भूख प्राकृतिक आपदा नहीं है

इस बार उसने सहमति में
माथा थोडा सा हिलाया
कहा, आजकल भूख भी
ग्लैमर है .
औरतें धारावाहिकों में
चौथ, तीज पर कई सप्ताह
तक के प्रसारण में
भूखी रह जाती हैं !

मै हंसा...

उसने कहना जारी रखा-
अनाज गोदामों में मिट्टी हो रहा है
लोग गरीबी की किसी अदृश्य लकीर
(जिसे खींचने की मंशा पर नहीं मगर
औचित्य पर संदेह होता है)
के नीचे दर्ज किए जा रहे हैं... मगर,

कोई कवायद
भूखे को रोटी खिलाने की
नहीं... जबकि योजनाएँ मालपुआ हैं !
जोर इस पर है कि
भूखों को
प्यादा बनाकर
चुनाव की बिसात फतह की जाय...

भूख एक व्यवसाय है मित्र
भूख एक बाज़ी है...
तेरी-मेरी भूख,
उनकी रोटी है !  

उसने कहा और
इससे, मैं अंतत: सहमत हो गया...

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...