गठरी...

३१ जुलाई (1) अभिव्यक्ति की आज़ादी (2) अरुंधती रॉय (1) अरुण कुमार असफल (1) आदिवासी (1) आदिवासी संघर्ष (1) आधुनिक कविता (3) आलोचना (1) इंदौर (1) इंदौर प्रलेसं (7) इप्टा (2) इप्टा - इंदौर (1) कविता (40) कश्मीर (1) कहानी (7) कामरेड पानसरे (1) किताब (1) किसान (1) कॉम. विनीत तिवारी (4) क्यूबा (1) क्रांति (2) गज़ल (5) गुंजेश (1) गुंजेश कुमार मिश्रा (1) गौहर रज़ा (1) घाटशिला (2) जमशेदपुर (1) जल-जंगल-जमीन की लड़ाई (1) ज्योति मल्लिक (1) डॉ. कमला प्रसाद (3) तहरीर चौक (1) ताजी कहानी (4) दलित (2) धूमिल (1) नज़्म (8) नागार्जुन (1) नागार्जुन शताब्दी वर्ष (1) नारी (3) निर्मला पुतुल (1) नूर जहीर (1) परिकथा (1) पहल (1) पहला कविता समय सम्मान (1) पूंजीवाद (1) पेरिस कम्यून (1) प्रकृति (3) प्रगतिशील मूल्य (2) प्रगतिशील लेखक संघ (4) प्रगतिशील साहित्य (3) प्रलेस (1) प्रलेस घाटशिला इकाई (1) प्रलेसं (12) प्रलेसं-घाटशिला (2) प्रेम (17) प्रेमचंद (1) प्रेमचन्द जयंती (1) प्रोफ. चमनलाल (1) फिदेल कास्त्रो (1) फैज़ अहमद फैज़ (2) बंगला (1) बंगाली साहित्यकार (1) बेटी (1) बोल्शेविक क्रांति (1) भगत सिंह (1) भारत (1) भारतीय नारी संघर्ष (1) भाषा (3) भीष्म साहनी (2) मई दिवस (1) महादेव खेतान (1) महिला दिवस (1) महेश कटारे (1) मार्क्सवाद (1) मिथिलेश प्रियदर्शी (1) मिस्र (1) मुक्तिबोध (1) मुक्तिबोध जन्मशती (1) युवा (17) युवा और राजनीति (1) रचना (6) रूसी क्रांति (1) रोहित वेमुला (1) लघु कथा (1) लेख (3) लैटिन अमेरिका (1) वर्षा (1) वसंत (1) वामपंथी आंदोलन (1) वामपंथी विचारधारा (1) विद्रोह (16) विनीत तिवारी (1) विभूति भूषण बंदोपाध्याय (1) व्यंग्य (1) शमशेर बहादुर सिंह (3) शेखर (11) शेखर मल्लिक (2) समकालीन तीसरी दुनिया (1) समयांतर पत्रिका (1) समसामयिक (8) समाजवाद (2) सांप्रदायिकता (1) साम्प्रदायिकता (1) सावन (1) साहित्य (6) साहित्यिक वृतचित्र (1) स्त्री (18) स्त्री विमर्श (1) हरिशंकर परसाई (2) हिंदी (42) हिंदी कविता (41) हिंदी साहित्य (78) हिंदी साहित्य में स्त्री-पुरुष (3) ह्यूगो (1)

शुक्रवार, 18 जून 2010

मेरी जिंदगी में भी आई लड़कियाँ

मेरी जिंदगी में भी आई लड़कियाँ
जैसे खिड़की खोलते ही आती है ताजी हवा
जैसे बारिश की रातों में चाँद पर
आ जाते हैं हलके बादल,
आती है सुबह, घास पर ओस की बूंदें...
जैसे आती है बारिश, ठण्ड और गर्मी...
जैसे, आना होता है एक संभाव्य या निश्चितता
ऐसे ही आयीं लड़कियाँ...

कुछ भी नहीं था
तयशुदा,
सिवाए वादे किये जाने
और वादों को याद रखने के...
और बिना तय किये ही टूटते रहे वादे...
बावजूद इसके, मेरी वफ़ा किसी चमत्कार से हथियातीं
अपनी मासूमियत से मेरा भरोसा लूटती लडकियाँ...
और एक जिद की मानिंद मैं प्यार करता उनसे


हलके रंगों में हम ढूंढते रहे
आपस की वचनबद्धता...
फूलों और गंध के बीच
हवा की जिम्मेदारी...
कुछ ऐसे ही ढूँढना था
हमें अपने मिलने और साथ होने का सबब
फिर किसी रोज
हम बिछुड़ते थे अजनबियों की तरह
एक दूसरे को भविष्य की शुभकामनायें देते हुए...
एकदम निष्पाप बन जाते हुए...

वसंत के ठीक पहले आती रहीं लड़कियाँ
और पतझड़ से ऐन पहले विदा हो जाती लड़कियाँ...
जैसे किसी फ़िल्मी पटकथा में ऐसा ही लिखा गया हो !

यादों के गुब्बार छोडती लड़कियों का
मेरे इतिहास से इतना ही बाबस्ता रहा...
कि उनकी भूमिका सिर्फ़ यादें उत्पादित करना था...
मेरी शक्ल पर गमज़दा मुखौटे चढ़ाती लड़कियाँ
मुझे खुश रहने देने की खुशफहमियां देने वाली वो लड़कियाँ,
मेरी आत्मा को जज्बातों की प्रयोगशाला में तब्दील करने वाली लड़कियाँ
गैर-पते की चिठ्ठियों की तरह
डाक-खाने में हीं गुम हो गयीं...

चूँकि हमारे रिश्तों में ईमानदार होना कोई नियम नहीं था,
अपना ईमान साबुत लेकर चली गयीं लड़कियाँ...

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...