गठरी...

३१ जुलाई (1) अभिव्यक्ति की आज़ादी (2) अरुंधती रॉय (1) अरुण कुमार असफल (1) आदिवासी (1) आदिवासी संघर्ष (1) आधुनिक कविता (3) आलोचना (1) इंदौर (1) इंदौर प्रलेसं (7) इप्टा (2) इप्टा - इंदौर (1) कविता (40) कश्मीर (1) कहानी (7) कामरेड पानसरे (1) किताब (1) किसान (1) कॉम. विनीत तिवारी (4) क्यूबा (1) क्रांति (2) गज़ल (5) गुंजेश (1) गुंजेश कुमार मिश्रा (1) गौहर रज़ा (1) घाटशिला (2) जमशेदपुर (1) जल-जंगल-जमीन की लड़ाई (1) ज्योति मल्लिक (1) डॉ. कमला प्रसाद (3) तहरीर चौक (1) ताजी कहानी (4) दलित (2) धूमिल (1) नज़्म (8) नागार्जुन (1) नागार्जुन शताब्दी वर्ष (1) नारी (3) निर्मला पुतुल (1) नूर जहीर (1) परिकथा (1) पहल (1) पहला कविता समय सम्मान (1) पूंजीवाद (1) पेरिस कम्यून (1) प्रकृति (3) प्रगतिशील मूल्य (2) प्रगतिशील लेखक संघ (4) प्रगतिशील साहित्य (3) प्रलेस (1) प्रलेस घाटशिला इकाई (1) प्रलेसं (12) प्रलेसं-घाटशिला (2) प्रेम (17) प्रेमचंद (1) प्रेमचन्द जयंती (1) प्रोफ. चमनलाल (1) फिदेल कास्त्रो (1) फैज़ अहमद फैज़ (2) बंगला (1) बंगाली साहित्यकार (1) बेटी (1) बोल्शेविक क्रांति (1) भगत सिंह (1) भारत (1) भारतीय नारी संघर्ष (1) भाषा (3) भीष्म साहनी (2) मई दिवस (1) महादेव खेतान (1) महिला दिवस (1) महेश कटारे (1) मार्क्सवाद (1) मिथिलेश प्रियदर्शी (1) मिस्र (1) मुक्तिबोध (1) मुक्तिबोध जन्मशती (1) युवा (17) युवा और राजनीति (1) रचना (6) रूसी क्रांति (1) रोहित वेमुला (1) लघु कथा (1) लेख (3) लैटिन अमेरिका (1) वर्षा (1) वसंत (1) वामपंथी आंदोलन (1) वामपंथी विचारधारा (1) विद्रोह (16) विनीत तिवारी (1) विभूति भूषण बंदोपाध्याय (1) व्यंग्य (1) शमशेर बहादुर सिंह (3) शेखर (11) शेखर मल्लिक (2) समकालीन तीसरी दुनिया (1) समयांतर पत्रिका (1) समसामयिक (8) समाजवाद (2) सांप्रदायिकता (1) साम्प्रदायिकता (1) सावन (1) साहित्य (6) साहित्यिक वृतचित्र (1) स्त्री (18) स्त्री विमर्श (1) हरिशंकर परसाई (2) हिंदी (42) हिंदी कविता (41) हिंदी साहित्य (78) हिंदी साहित्य में स्त्री-पुरुष (3) ह्यूगो (1)

गुरुवार, 24 जून 2010

आम आदमी और भाषा का रिश्ता (कुछ व्याख्याएं, कुछ निष्कर्ष)

आम आदमी को अर्जित करनी पड़ती है, राजभाषा 
जैसे कमाता है वह दाल-रोटी, माह की रोजी... बमुश्किल
यद्यपि उसकी सभी अभिव्यक्तियाँ और प्रतिक्रियाएँ
राज भाषा की मोहताज नहीं होतीं... बिल्कुल नहीं
आम आदमी राजभाषा में निरीह चौपाया होता है
जो उसकी वर्तनी की, विशिष्टार्थों की फांस में
उलझ जाता है, और फडफडाता रहता है...
सरकारें राजभाषा की चापलूस और पैरोकार 
दोनों हो सकती हैं,
लेकिन आम आदमी चाहे तो राजभाषा नहीं बरतता

अपनी भाषा में आम आदमी लड़ाकू होता है
बेहद बहादुर... 
अपनी भाषा में वह आपको अगर प्यार कर सकता है,
आपको नंगा भी कर सकता है 
और आप उसका बाल भी बांका नहीं कर सकते !
अपनी भाषा में आम आदमी अपनी ज़मीन, अपनी जमीर के
बहुत करीब होता है... 
अपनी भाषा में आम आदमी
आदमी बनता है, आदमी तैयार करता है
आदमियत की ज़मीं तैयार करता है...

आम आदमी और राजभाषा का रिश्ता
घोड़े और लगाम का रिश्ता है

आम भाषा धान की बाली है
हवलदार की गाली है
पगड़ी है, धोती है, औजार है, पसीना है...
मिटटी है, दाना है...

राज भाषा गमले की बोंजाई है,
आलों में कैद मोदी-गदराई जिल्दें हैं...
राजमार्ग की चुंधियाती हुई नियोन की बत्तियाँ हैं...

ज्यादा बार आम आदमी दुहाई देता हुआ निरीह नजर आता है...
कई बार वह बेचारा कर दिया गया होता है
और अपनी भाषा के साथ अपनी अस्मिता के लिए रिरियाता है...

लेकिन फिर एक सुकून मिलता है कि
राजभाषा में गुर्राती हुई आवाजों 
और मोहरों की तरह जबरदस्ती चस्पां किये गए 
फैसलों के खिलाफ़
वह आपने तरीके से विद्रोह कर जाता है...
कि वह राजभाषा को 
स्कूली बस्तों, इश्तिहारों, आवेदन पत्रों,
सरकारी दफ्तरों और दीवानी कचहरी के अहातों...
के बाहर 
अपने गमछे से धूल की मानिंद झाडकर
आगे बढ़ जाता है.

१८/२३-०६-२०१०

2 टिप्‍पणियां:

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...